User ID:      Password:        Forgot Password ?
 
 About Me
 Friends
 Songs
 Lyrics  
 Poems
 Pictures
 Videos
 Links 
मेरा प्यार
(My Love)
- V0
Member: Abhi Sen
Words: Abhi Sen

मेरा प्यार

टेक कर घुटने, झुका सिर, प्रेम का जो दान माँगे हो किसी   का प्यार लेकिन, प्यार वो मेरा नहीं है।

रख न पाया मान निज जो, प्यार वो   कैसे करेगा? हीनता से ग्रस्त है जो, दीनता ही दे सकेगा द्वार पर तेरे खड़ा हूँ,   स्नेह का लेकर निमंत्रण एक चुटकी भीख को यह दीन का फेरा नहीं है हो किसी का प्यार   लेकिन, प्यार वो मेरा नहीं है

है विदित, होती रही है प्यार की उद्दाम धारा   बँध सके जो बंधनों से और ना निज कूल से राह में अवरोध कोई सर उठाए यह झुका दे,   तोड़ दे, ढाये उखाड़े मूल से है अगर यह प्यार तो आश्वस्त हूँ मैं इस प्रभंजन ने   प्रबल, यह मन मेरा घेरा नहीं है हो किसी का प्यार लेकिन प्यार वो मेरा नहीं   है

प्यार वो है ले बहे जो, मंद मंथर गति निरंतर जी उठे स्पर्श पाकर हाँफती   मरुभूमि बंजर मान रखता, मान देता, मधुर मंगल रूप कोमल प्यार का जो स्वप्न मेरा   क्या वही तेरा नहीं है? टेक कर घुटने, झुका सिर, प्रेम का जो दान माँगे हो किसी   का प्यार लेकिन , प्यार वो मेरा नहीं है।

MY LOVE

Some people beg for someones love by, bowing their heads   and on their knees. It is not my love.

The one who does not keep his   self-respect, how can he love? the one who feels low can only give   despair.

I am standing at you door with the invitation for love, but if   given as a pinch of alms, it is for someone, not me.

( the second verse   is in very high hindi)

My love is strong and not weak

love is like a   soft flowing river, whi´ch freshens everything even dry, unfertile earth. love   should bring respect for eachother, sweet and beautiful, this soft dream of my   love, isnt it your too? 

begging for love on my knees with bowed head is   not my love